Wednesday, July 12, 2017

सब भेंट कर देना चाहती थी......निधि सक्सेना

















उस रोज मंदिर में
देवी माँ के समक्ष
भावविह्लल मैं
उन्हें अपने दुख दर्द
मान अपमान
विश्वास अविश्वास
आस निराश
सब भेंट कर देना चाहती थी..
अनुरक्त नयन माँ के नयनों में ठहर गए
कुछ जाने पहचाने से लगे उनके नयन
जैसे वर्षों से परिचित हों..
पहचानने का प्रयास किया
तो स्मरण हुआ
कि ये तो वही नयन हैं
जिन्हें मैं रोज़ आईने में देखती हूँ
ये मेरे ही नयन हैं..
बड़ा विचित्र अनुभव था 
जैसे मैं स्वयं के सम्मुख
अपनी ही शरण में 
खुद से ही साहस की गुहार कर रही थी...
और मैंने स्वयं को इच्छित वरदान दिया
मेरी सारी शक्ति मैं ही हूँ
मैं ही देवी हूँ
मैं ही राधा हूँ
मैं ही चेतन हूँ
मेरी ही प्रतीक्षा में जय है
मेरी ही प्रतीक्षा में कृष्ण हैं
फिर भय कैसा
फिर विपदा क्या...
मुस्कान भरी आश्वस्ति से माँ को प्रणाम किया
आज देवी माँ पर अपार श्रद्धा ही नही
अपूर्व प्रेम भी उमड़ आया...
~निधि सक्सेना

4 comments:

  1. स्वयं के अस्तित्व शक्ति का एहसास अद्भुत लेखन।
    सुंदर।
    आभार।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुंदर....
    सही कहा मैं ही शक्ति हूँ.....
    बस स्वयं को जान लें तो ...जाग जायेंं...
    माँ हर वक्त अपने साथ है ...अपने में है...
    लाजवाब प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल गुरूवार (13-07-2017) को "पाप पुराने धोता चल" (चर्चा अंक-2665) (चर्चा अंक-2664) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete